Tuesday, February 23, 2010

अप्रैल से सेङ्क्षवग अकाउंट देगा सोने का अंडा!

अगर आप उन लोगों में से हैं जिनके सेविंग अकाउंट में हमेशा काफी पूंजी जमा रहती है तो आपके लिए एक बड़ी खुशखबरी है। एक अप्रैल से आपको सेविंग अकाउंट में जमा आपकी पूंजी पर अब ब्याज की रकम ज्यादा मिलेगी। रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने पिछले साल घोषणा की थी कि सेविंग अकाउंट में जमा पर मिलने वाले ब्याज की गणना की पद्धति में बदलाव किया जाएगा। यह बदलाव एक अप्रैल 2010 से प्रभावी होना है। नई पद्धति में सेविंग अकाउंट पर ब्याज दर तो 3.5 फीसदी ही रहेगी, लेकिन ब्याज की गणना प्रतिदिन के हिसाब से होगी। फिलहाल कैसे होती है ब्याज की गणनाफिलहाल आपके सेविंग अकाउंट में 10 तारीख से लेकर महीने के आखिर तक जो भी न्यूनतम राशि रहती है उसी पर बैंक ब्याज देता है। ब्याज दर 3.5 फीसदी सालाना या 0.29 फीसदी मासिक होती है। बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिनके अकाउंट में महीने के आखिर में खाते में काफी कम रकम बाकी रहती है। इससे खाताधारकों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है। मान लीजिए आपके सेविंग अकाउंट में 10 नवंबर को 1,000 रुपये हैं और एक दिन बाद आप खाते में एक लाख रुपये जमा कर देते हैं। लेकिन 30 दिसंबर को आप ये एक लाख रुपये निकाल लेते हैं तो आपके इन 51 दिनों के लिए केवल 1,000 रुपये पर ही ब्याज मिलेगा। क्योंकि 10 नवंबर से 30 नवंबर के दौरान आपके खाते में न्यूनतम राशि 1,000 रुपये ही शेष थी और उसके बाद 10 दिसंबर से 31 दिसंबर के दौरान भी न्यूनतम राशि 1,000 रुपये ही रह गई। जबकि इस दौरान एक लाख एक हजार रुपये बैंक के पास 49 दिन के लिए मौजूद रहे। इस नियम से बैंक फायदे में रहते हैं। ऐसा इसलिए भी क्योंकि ज्यादातर लोग महीने के खर्च के लिए बचत खाते से 10 तारीख के पहले ही रकम निकाल लेते हैं। रिजर्व बैंक ने एक अप्रैल से नया नियम लागू करने की घोषणा कर आम खाताधारकों को काफी राहत दी है। इस नियम की घोषणा 21 अप्रैल 2009 को चालू वित्त वर्ष 2009-10 की सालाना मौद्रिक नीति पेश करते हुए रिजर्व बैंक के गवर्नर डॉ. डी सुब्बाराव ने की थी। अप्रैल के बाद कितना मिलेगा ब्याजहालांकि एक अपै्रल के बाद भी सेविंग अकाउंट पर सालाना ब्याज दर 3.5 फीसदी ही रहेगी, लेकिन ब्याज दर की गणना बदल जाएगी। तब ब्याज दर 3.5 फीसदी सालाना या 0.0095 फीसदी प्रति दिन होगी। सबसे जरूरी बात तो यह कि आपके अकाउंट के प्रतिदिन के बैलेंस पर ब्याज की गणना होगी। मानिए अप्रैल महीने की आपके सेविंग अकाउंट की स्टेटमेंट नीचे दिए गए विवरण जैसी है-तारीख जमा (रुपये) निकासी बकाया1 अप्रैल 5,0002 अप्रैल 30,000 35,0003 अपै्रल 4,000 31,0005 अप्रैल 4,000 27,00010 अप्रैल 12,000 15,00013 अपैैल 2,700 17,70018 अप्रैल 4,500 13,20025 अप्रैल 5,500 7,70030 अप्रैल 7,700ऐसे में ब्याज की मौजूदा गणना पद्धति के तहत आपको 10 अपै्रल से 30 अप्रैल तक आपके सेविंग अकाउंट में न्यूनतम बकाया यानी 7,700 रुपये पर 0.29 फीसदी मासिक की दर से अप्रैल में 22.46 रुपये ब्याज मिलता। लेकिन एक अप्रैैल से नई पद्धति लागू होने के बाद अप्र्रैल का आपके सेविंग अकाउंट की राशि का ब्याज 0.0095 फीसदी प्रतिदिन के हिसाब से 48.82 रुपये होगा। इससे साफ है कि आपको अप्रैल के बाद अपने सेविंग अकाउंट पर दोगुना से भी ज्यादा ब्याज मिलने जा रहा है। हालांकि इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि आप अपनी बचत को सेविंग अकाउंट में डाले रखें। अपने पैसे को अन्य स्थानों पर निवेश कर इससे काफी ज्यादा रिटर्न आप हासिल कर सकते हैं।

2 comments:

Nikhil kumar said...

superfastthanks for this information .........

Ratan Singh Shekhawat said...

आपके ब्लॉग पर आकर बहुत ख़ुशी हुई | कृपया नियमित लिखते रहे और अपने ब्लॉग को हिंदी ब्लॉग एग्रीगेटर्स में जोड़े ताकि वहां ज्यादा से ज्यादा पाठक आपके ब्लॉग तक पहुँच सकें | इन एग्रीगेटर्स के वेब पते निम्न है |

http://blogvani.com
http://chitthajagat.in