Monday, June 28, 2010

मेडिक्लेम पॉलिसी लेते समय डॉक्यूमेंट को पढऩा न भूलें

मेडिक्लेम पॉलिसी लेकर आप निश्चिंत हो जाते हैं। लेकिन सोचिए आपका अनुभव तब कैसा रहेगा जब अस्पताल में भर्ती होने पर आपकी बीमा कंपनी होने वाले खर्च की भरपाई करने से इनकार कर दे। ऐसी शिकायतें आए दिन सामने आती हैं कि बीमा कंपनी ने या तो मेडिक्लेम की आधी-अधूरी राशि ही दी या उस बीमारी को पॉलिसी से बाहर बताकर किसी तरह का खर्च देने से ही इनकार कर दिया। इसलिए यह जानना बहुत जरूरी हो जाता है कि जो मेडिक्लेम पॉलिसी आपने ली है वह किन-किन बीमारियों को कवर करती है और किन परिस्थियों में वह खर्च उठाने से कंपनी इनकार कर सकती है। किन परिस्थितियों में क्लेम नहींसबसे पहले तो यह जानने की जरूरत है कि कुछ बीमारियों या दुर्घटनाओं को स्थायी या अस्थाई रूप से मेडिक्लेम पॉलिसियों से बाहर रखा जाता है। जैसे युद्ध, हमले, विदेशी शत्रुता में किया गया आणविक हमला, रेडियोएक्टिव हमले आदि में होने वाली बीमारियों आदि के इलाज का खर्च देने से कंपनियां इनकार कर सकती हैं। इसके अलावा प्रेग्नेंसी और बच्चे के जन्म पर होने वाले खर्च को भी ज्यादातर कंपनियां लिस्ट में शामिल नहीं रखती हैं, हालांकि कुछ बीमा कंपनियां कॉरपोरेट मेडिक्लेम पॉलिसी में मैटरनिटी पर होने वाले खर्च का भुगतान भी करती हैं। इसके अलावा एचआईवी-एड्स, शराब, ड्रग्स आदि के कारण होने वाले वाला खर्च भी कंपनियां नहीं उठाती हैं। आंख और कान के इलाज पर उपकरणों का खर्च और दांतों से संबंधित बीमारियां भी आमतौर पर लिस्ट से बाहर रहती हैं। किसी भी खतरनाक खेल के दौरान घायल होने पर, आनुवंशिक बीमारी, मानसिक बीमारी का इलाज,जन्मजात बीमारी के इलाज आदि का खर्च भी कंपनियां नहीं उठाती हैं। हालांकि प्रीमियम के हिसाब से भी इनक्लूजन और एक्सक्लूजन कंपनियां तय करती हैं। बीमा एवं वित्तीय मामलों के सलाहकार नवनीत धवन का कहना है कि पूरा मेडिक्लेम नहीं मिलने का कारण पॉलिसी धारकों में जानकारी का अभाव भी होता है। लिमिटेशंस के आधार पर ही रूम रेंट, आईसीयू आदि का खर्च तय होता है। जैसे यदि एक लाख रुपये के मेडिक्लेम पर 1,000 रुपये का रूम रेंट ही मिलता है इससे ज्यादा होने पर कंपनी बाकी बिल पास नहीं करेगी। कैसे-कैसे एक्सक्लूजंसएक्सक्लूजन आमतौर पर तीन प्रकार के होते हैं। स्थाई-जिन बीमारियों को कभी मेडिक्लेम पॉलिसी में शामिल नहीं किया जाता है। अस्थार्ई- जिन बीमारियों को पॉलिसी के पहले कुछ सालों तक शामिल नहीं किया जाता है और लिमिटेड-ऐसी बीमारियां जिनको पॉलिसी में शामिल तो किया जाता है, लेकिन उन पर होने वाले खर्च का पूरा भुगतान बीमा कंपनियां नहंी करती हैं बल्कि एक निश्चित रकम का भुगतान ही करती हैं। आए दिन मिलने वाली शिकायतों से लगता है कि मेडिक्लेम पॉलिसी लेने वाले व्यक्ति इस बात को जानने में शायद कम तवज्जो देते हैं कि किन परिस्थितियों में कंपनी उनको मेडिक्लेम का भुगतान करने से मना कर सकती हैं। बीमा मामलों के जानकार और सलाहकार हर्ष रूंगटा का कहना है कि पॉलिसी लेने से पहले एक्सक्लूजन और इनक्लूजन को ध्यान से पढऩा चाहिए। इसके अलावा लिमिटेशंस को भी ध्यान में रखें। ऐसा करने पर इस तरह की परेशानियों से बचा जा सकता है। डॉक्यूमेंट पढऩे में थोड़ा समय देंऐसा देखा जाता है कि लोग मेडिक्लेम पॉलिसी लेकर ही निश्चिंत हो जाते हैं। यह बात केवल मेडिक्लेम पॉलिसी पर ही लागू नहीं होती बल्कि किसी भी फाइनेंशियल प्रोडक्ट पर लागू होती है। आप पैसे खर्च कर रहे हैं तो आपको प्रोडक्ट से संबंधित सभी शर्तें और उसमें शामिल सुविधाओं को जानने पर पर्याप्त समय देना चाहिए। मेडिक्लेम पर तो खास ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि यदि जरूरत पडऩे पर कंपनी इलाज का पैसा देने से इनकार कर दे तो आपके लिए वह पॉलिसी बेकार है और आप आर्थिक परेशानी में फंस सकते हैं। ऐसे में मेडिक्लेम पॉलिसी लेते समय यह जानने की जरूर कोशिश करें कि उसमें किन बीमारियों को शामिल किया गया है और किनका खर्च कंपनी नहीं देगी। इसके अलावा बीमा कंपनियों की भी यह जिम्मेदारी बनती है कि वे पॉलिसी धारकों को इसके बारे में स्पष्ट और पूरी जानकारी दे।

3 comments:

Anonymous said...

[p]It was during [url=http://www.distiffanyforsale.com]tiffany outlet online[/url] 1858 also that the company started producing clocks and watches . Compared to sterling silver jewelry, lots of diamond, platinum or gold jewelry are [url=http://www.distiffanyforsale.com]tiffany jewelry outlet[/url] more precious . Tiffany隆炉s design emphasis on excellence, it can freely get inspiration from the natural world and left tedious [url=http://www.distiffanyforsale.com]tiffany outlet store[/url] and delicate artificial, just simple and clear, and each masterpiece reflect the people of the United States is born with candor, optimism, and Zhaxian wit . Putting on extraordinary jewellery these types of as Tiffany jewellery can be explained as sort of design to maintain " pulse " with fashion and time . These can affect your health due to the cheap materials, [url=http://www.distiffanyforsale.com]tiffany heart necklace[/url] toxic chemicals and metals sometimes used in their manufacture . Now, there's [url=http://www.distiffanyforsale.com]tiffany online[/url] even more . actually you will find significantly a number of tiffany metallic jewellery topple offs just about all all-around.[/p]

Anonymous said...

[p]Be sure to place the Suncamp . I t s r e a l l y e a s y t o u s e , y o u s i m p l y j u s t a p p l y s o m e o f y o u r f a v o u r i t e [url=http://www.disclarisonicsale.com]clarisonic sale[/url] c l e a n s e r t o y o u r f a c e a n d t u r n o n t h e M i a a n d u s e i t i n c i r c u l a r m o t i o n s o n y o u r f a c e . You might have struggled with dark circles, wrinkles, pimples, dry patches or significant pores, to identify a handful of . Next, I'm going to be honest is stuck, and want to replace the brush head every three months . We are living in the digital age, if we can get a beauty product that can give us clear skin and fewer wrinkles would you try it? [url=http://www.disclarisonicsale.com]cheap clarisonic mia outlet[/url] Here we feature two of the best available and what results they give . co . Using it is as simple as putting your favorite cleanser, turning [url=http://www.disclarisonicsale.com]clarisonic mia sale[/url] it on, and massaging its brush all over your face . I n d e e d , t o d o t h e c l e a n i n g [url=http://www.disclarisonicsale.com]discount clarisonic mia[/url] w o r k , f o l l o w - u p c a r e a n d m a i n t e n a n c e i s r e d o u b l e d . Use Clarisonic [url=http://www.disclarisonicsale.com]clarisonic [/url] followed by daily Renewal Serum gives your skin benefits of anti aging.[/p]

irda mock test said...

Taking into account the difficulties faced by insurers in recruitingagents, the Insurance Regulatory and Development Authority (Irda) has decided to reduce the pass percentage bench mark to 35% in Agents Pre-recruitment Examination. Till now, the pass percentage was 50%.

In a circular to the chief executives of all insurance companies, Sudhin Roy Chowdhury, Member (Life) of Irda said that the Authority has been receiving representations from various stakeholders expressing the practical difficulties involved in Recruitment of Insurance Agents. He added that the concerns raised have been examined keeping in view the present market scenario.